Rajasthan Gk Notes

राजस्थान में पशु संपदा / पशुधन

राजस्थान में पशु संपदा –

राजस्थान में पशु संपदा | 20वीं पशु गणना 2020 | राजस्थान में पशुओं की प्रमुख नस्लें | राजस्थान के प्रमुख पशु | मेले राजस्थान के प्रमुख मेले trick | पशु गणना 2019 के अनुसार राजस्थान में कुल पशुधन | राजस्थान में सर्वाधिक पशुधन  | 20 वी पशु गणना के अनुसार राजस्थान का पशु घनत्व | राजस्थान में 20 वी पशु गणना के आंकड़े pdf | राजस्थान की पशु सम्पदा PDF | 20 वी पशु गणना के अनुसार राजस्थान में पशु घनत्व  |पशु घनत्व राजस्थान 2019 | राजस्थान की पशु गणना 2020 | राजस्थान के प्रमुख पशु मेले | राजस्थान के पशु मेले PDF 

 

  • राजस्थान में पहली बार पशुगणना दिसंबर,1919 से अप्रैल, 1920 की गई।
  • देश की कुल पशु शक्ति का राजस्थान में 35% हिस्सेदारी है।
  • राजस्थान में देश की कुल दुग्ध उत्पादन का 11%,बकरा मांस का 35% तथा ऊन का 31% उत्पादन होता है।
  •  स्वतंत्र भारत की प्रथम पशु गणना 1951 में करवाई गई।
  • वर्तमान राजस्थान की प्रथम पशु गणना 1961 में की गई।
  • राजस्थान में प्रथम ग्रामवार पशु गणना 1977 में की गई।
  • राजस्थान में प्रथम नस्लवार पशु गणना 2007 में की गई।
  • वर्तमान राजस्थान में 20 वी पशु गणना  2017 में की गई जिसका प्रकाशन पशुपालन विभाग द्वारा 16 अक्टूबर 2019 में किया गया।
  • राजस्थान में पशु गणना का कार्य राजस्व मंडल अजमेर के द्वारा प्रति 5 वर्षों में किया जाता है।

 

20 वी पशु गणना 2017 (16 अक्टूबर 2019 को प्रकाशित हुई) के अनुसार कुछ महत्वपूर्ण आंकड़े

  • राजस्थान में कुल पशुओं की संख्या 5 करोड 68 लाख है जिसमें 1.66% की कमी दर्ज की गई है जबकि19वीं जनगणना 2012 के अनुसार राजस्थान में कुल पशुओं की संख्या 5 करोड़ 77 लाख थी।
  • पशु संपदा की दृष्टि से राजस्थान का भारत में दूसरा स्थान है जबकि उत्तर प्रदेश भारत में प्रथम स्थान रखता है।

गोवंश – 

  • कुल संख्या – 1.39 करोड़
  • कमी / वृद्धि – 4.41% की वृद्धि
  • भारत में स्थान – छठा

भेंस – 

  • कुल संख्या – 1.37 करोड़
  • कमी / वृद्धि – 5.53% की वृद्धि
  • भारत में स्थान – दूसरा

भेड़

  • कुल संख्या – 0.79 करोड़
  • कमी / वृद्धि – 12.95% कमी
  • भारत में स्थान – चौथा

बकरी 

  • कुल संख्या – 2.08 करोड़
  • कमी / वृद्धि – 3.81% की कमी
  • भारत में स्थान – प्रथम

ऊंट 

  • कुल संख्या –  2.13 लाख
  • कमी / वृद्धि – 34.69% की कमी
  • भारत में स्थान – प्रथम

अश्व 

  • कुल संख्या – 0.34 लाख
  • कमी / वृद्धि – 10.85% की कमी
  • भारत में स्थान – तीसरा

गधा

  • कुल संख्या – 0.23 लाख
  • कमी / वृद्धि – 7.1 3% कमी
  • भारत में स्थान -प्रथम

 

“राजस्थान में डेयरी विकास”:-

  • राजस्थान में डेयरी विकास कार्यक्रम अमूल डेयरी की तर्ज पर सहकारिता के सिध्दांत पर आधारित है।
  • दुग्ध उत्पादन में वृद्धि हेतु :-
  • सन् 1970 में ऑपरेशन फ्लड चलाया गया ।
  • श्वेत क्रांति का जनक वर्गीज कुरियन हैं।
  • वर्गीज कुरियन ने आंणद( गुजरात) में अमूल डेयरी की स्थापना की ।
  • श्वेत क्रांति चौथी पंचवर्षीय योजना की देन है।

● “डेयरी का राज्य में त्रिस्तरीय ढांचा”:-

  1. शीर्ष स्तर:- राज्य स्तर पर
    – राजस्थान सहकारी डेयरी संघ ।
  2.  जिला स्तर:- जिला दुग्ध उत्पादन केंद्र
  3. प्राथमिक स्तर:- प्राथमिक दुग्ध सहकारी संकलन समिति।
  • राज्य में सबसे पुरानी डेयरी :- पदमा ( अजमेर)
  • सबसे बड़ी डेयरी:- रानीवाड़ा ( जालौर)
  • भारत का सबसे बड़ा दूध पैकिंग सेंटर :- कोटपूतली

● राजस्थान की प्रमुख पशु नस्लें –

● गोवंश की नस्लें-

1. राठी – भारत में सर्वाधिक गौवंश मध्यप्रदेश में जबकि राजस्थान का छठा स्थान है।

  • गोवंश की राठी नस्ल लाल सिन्धी और साहिवाल की मिश्रित नस्ल है।
  • यह नस्ल राजस्थान में सर्वाधिक दूध देने वाली नस्ल है।
  • इसका विस्तार क्षेत्र घग्घर प्रदेश( गंगानगर, हनुमानगढ़ ) है।
  • राठी नस्ल की गाय को राजस्थान की कामधेनु कहा जाता है।

2. हरियाणवी नस्ल –

  • गोवंश की इस नस्ल का मूल स्थान रोहतक (हरियाणा) है ।
  • इसका विस्तार क्षेत्र चूरू झुंझुनू सीकर तथा जयपुर में है।

3. नागौरी नस्ल –

  • गोवंश की नागौरी नस्ल का मूल स्थान सुहालक क्षेत्र (नागौर) है।
  • इसका विस्तार क्षेत्र नागौर के आसपास (नागौर, दक्षिणी बीकानेर,जोधपुर) है।
  • नागौरी बेल दौड़ने में तेज, मजबूत, कृषि कार्यो में उत्तम होते हैं ।
  • नागौरी नस्ल तेज धावक नस्ल है जिसका प्रयोग बैलगाड़ी दौड़ तथा जल्लीकट्टू में किया जाता है

4. थारपारकर –

  •  इस नस्ल का मूल स्थान पाकिस्तान का सिंध प्रांत है।
  • इसका विस्तार क्षेत्र राजस्थान का पश्चिमी क्षेत्र (बाड़मेर, जैसलमेर)।
  • थारपारकर राजस्थान में सर्वाधिक पाई जाने वाली गोवंश की देसी नस्ल है।
  • नोट – राजस्थान में डेयरी विकास हेतु सर्वाधिक उपयोगी नस्ल थारपारकर है।

5. कांकरेज –

  • गोवंश की कांकरेज नस्ल का मूल स्थान गुजरात का कच्छ का रण है।
  • इस नस्ल का विस्तार क्षेत्र दक्षिण पश्चिमी राजस्थान (जालौर पाली सिरोही उदयपुर) है।

6. मालवी –

  • मालवी नस्ल का मूल स्थान मालवा प्रदेश (मध्य प्रदेश) है।
  • इसका विस्तार क्षेत्र के दक्षिण एवं दक्षिण पूर्वी राजस्थान (चित्तौड़गढ़, कोटा , झालावाड़, डूंगरपुर, बांसवाड़ा) है ।

7. गिर / रेंडी /अजमेरा 

  • इस नस्ल का मूल स्थान गिर (गुजरात) है।
  • इसका विस्तार क्षेत्र है अजमेर के आसपास (मध्य राजस्थान) में है।

8. सांचौरी –

  • इस नस्ल का मूल स्थान सांचौर (जालौर) है।
  • इस नस्ल का विस्तार क्षेत्र जालौर के आसपास है।
  • यह एक भारवाहक नस्ल है

9. मेवाती नस्ल या कोठी नस्ल –

  • नस्ल का मूल स्थान मेवात (हरियाणा) है।
  • इसका विस्तार क्षेत्र अलवर, भरतपुर है।

– राजस्थान में सर्वाधिक गोवंश उदयपुर, बीकानेर में तथा न्यूनतम गौवंश धौलपुर में पाया जाता है।

गोवंश की विदेशी नस्लें

  • जर्सी नस्ल – यह एक अमेरिका की नस्ल है इसका विस्तार क्षेत्र पूर्वी राजस्थान है
  • हॉलिस्टिन – यह एक होलेन्ड की नस्ल है
  • रेडडेन – यह डेनमार्क की नस्ल है

● भैंस की नस्लें

  • प्रमुख नस्लें –  मुर्राह, नागपुरी, बदरावरी, सुरति, जफरावाड़ी, मेहसाणा
  • देश में सर्वाधिक भैंस उत्तर प्रदेश में पाई जाती हैं जबकि राजस्थान का दूसरा स्थान है।
  • राजस्थान में सर्वाधिक भैंस जयपुर, अलवर में पाई जाती हैं जबकि न्यूनतम जैसलमेर में पाई जाती है।
  1. मुर्रा नस्ल- 
  • इस नस्ल का मूल स्थान पाकिस्तान का मोंटगोमरी है।
  • इसका विस्तार क्षेत्र अलवर, जयपुर, भरतपुर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, उदयपुर व कोटा है।
  • इसे मुरहा, खुंडी या  कुंन्नी नस्ल भी कहते हैं।
  • यह अधिक दूध देने के लिए प्रसिद्ध है।
  • यह नस्ल राजस्थान में सर्वाधिक पाई जाने वाली भेंस की नस्ल है।

2. सुरती नस्ल –

  • इस नस्ल का मूल स्थान सूरत (गुजरात) है ।
  • यह उदयपुर के आस – पास के क्षेत्र (दक्षिण – पश्चिन राजस्थान) में पाई जाती है।

3. जाफरबादी नस्ल –

  • इस नस्ल का मूल स्थान काठियावाड़ (गुजरात) है
  • यह गुजरात में सीमावर्ती जिलों (दक्षिण – पश्चिन राजस्थान) में पाई जाती है ।

4. नागपुरी नस्ल- 

  • इस नस्ल का मूल स्थान महाराष्ट्र का नागपुर है।
  • यह इसका विस्तार क्षेत्र  दक्षिण राजस्थान है।

5. भदावरी नस्ल –

  • इस नस्ल का मूल स्थान उत्तरप्रदेश का यमुनाघाटी है।
  • यह इसका विस्तार क्षेत्र पूर्वी राजस्थान है।
  • सर्वाधिक वसा की मात्रा भदावरी के दूध में पायी जाती है।

6. रथ नस्ल –

  • इस नस्ल का मूल स्थान उत्तरप्रदेश का यमुनाघाटी है।
  • यह इसका विस्तार क्षेत्र पूर्वी राजस्थान है।

● बकरी की नस्लें –  

1. अलवरी(झखराना):- झखराना गाँव( बहरोड़) अलवर
2. बारबरी:- पूर्वी राजस्थान (भरतपुर, धौलपुर, करौली, सवाईमाधोपुर)।
3. जमनापारी:- हाडौती का पठार (कोटा, बूंदी, झालावाड़)।
4. सिरोही:- सिरोही ।
5. मारवाड़ी /लोही:-  जोधपुर
6. शेखावाटी:- शेखावाटी प्रदेश(चुरू, सीकर, झुंझुनूं)
7. परबतसरी:- परबतसर ( नागौर)

महत्वपूर्ण तथ्य

  • बकरी को गरीब की गाय भी कहा जाता है।
  • राजस्थान में सर्वाधिक बकरियों वाला जिला बाड़मेर हैं तथा सबसे कम बकरियों वाला जिला धौलपुर हैं।
  • राजस्थान का बकरी पशुधन उत्पादन में प्रथम स्थान हैं।
  • नागौर जिले में वरुण गांव की बकरियां संपूर्ण देश में प्रसिद्ध है।
  • राजस्थान के कुल पशुधन में सर्वाधिक संख्या बकरियों की है।
  • राजस्थान में देश की कुल बकरियों की 27.76 % बकरियां पाई जाती है।
  • बकरी विकास एवं चारा उत्पादन परियोजना रामसर( अजमेर) में स्थित है जिसे राजस्थान सरकार ने स्विट्जरलैंड की सहायता से स्थापित किया है।
  • शेखावाटी नस्ल काजरी द्वारा विकसित बिना सींग की नस्ल है ।
  • लोही / मारवाड़ी नस्ल मांस के लिए प्रसिद्ध है ।
  • बारबरी नस्ल बकरी की सबसे सुन्दर नस्ल है ।
  • अविकानगर, टोंक में बकरी अनुसंधान एवं प्रजनन केंद्र स्थापित किया गया है।

● भेड़ की नस्ल –

  • प्रमुख नस्लें –  मारवाड़ी, मालवी( मालपुरी), बागड़ी चोखला, खेराड़ी, पुंगल जैसलमेरी, सोनाडी है ।

– राजस्थान में सर्वाधिक भेड़ बाड़मेर में जबकि सबसे कम भेड़ बांसवाड़ा में है।
– देश में राजस्थान का चौथा स्थान है।

  1. मारवाड़ी नस्ल – जोधपुर
  • राजस्थान में भेड़ की सर्वाधिक पाई जाने वाली नस्ल

2. मालपूरी नस्ल – मालपुरा टोंक

  • इसे देशी नस्ल भी कहा जाता है।
  • यह मोटी ऊन के लिए प्रसिद्ध नस्ल है

3. चोकला / शेखावाटी /छापर नस्ल – झुंझुनू, सीकर,चूरू।

  • यह सर्वश्रेष्ठ ऊन देने वाली नस्ल है
  •  इस नस्ल की भेड़ को भारत की मेरिनो कहा जाता है।

4. सोनाड़ी नस्ल – उदयपुर, डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़, बांसवाड़ा, भीलवाड़ा

  • यह सबसे लम्बे कान वाली नस्ल है
  • इसे चनोथर उपनाम से भी जाना जाता है।

5. पुंगल नस्ल – पश्चिमी बीकानेर जैसलमेर, नागौर ।

6. मगरा नस्ल – बीकानेर, जैसलमेर, नागौर ।

  • इसे बीकानेरी चोकला / नागौर की चोकला भी कहते हैं।

7. नाली नस्ल – गंगानगर, हनुमानगढ़

8. जैसलमेरी नस्ल – जैसलमेर

  • जैसलमेरी नस्ल भेड़ की सर्वाधिक ऊन देने वाली नस्ल है

9. खेरी नस्ल – जोधपुर, पाली, सिरोही

भेड़ों की विदेशी नस्लें

  1. रूसी मैरिनो नस्ल – टोंक, सीकर, जयपुर
  2. रेडबुल नस्ल –  टोंक
  3. कोरिडेल नस्ल – टोंक
  4. डोर्सेट नस्ल  – चित्तौड़गढ़

नोट –

  • ऊन विश्लेषण प्रयोगशाला बीकानेर में है।
  • भेड़ अनुसंधान केंद्र सुजानगढ़ व मालपुरा में है।

● ऊंट की नस्ल

  • ऊंट को मरुस्थल का जहाज कहा जाता है
  • देश में राजस्थान का ऊँट उत्पादन में प्रथम स्थान है।
  • जैसलमेर के नाचना गांव का ऊँट संपूर्ण देश में प्रसिद्ध है ।
  • राजस्थान में सर्वाधिक ऊँट जैसलमेर में पाए जाते हैं तथा न्यूनतम प्रतापगढ़ में पाए जाते हैं।
  • 19 सितम्बर, 2014 को राजस्थान सरकार ने ऊँट को राज्य पशु घोसित किया।
  • जोधपुर के फलौदी के निकट गोमठ का ऊँट सवारी की दृष्टि से अच्छा माना जाता हैं।
  • जैसलमेर की जैसलमेरी नस्ल तेज धावक नस्ल है
  • ऊँटों में सर्रा रोग पाया जाता है।
  • प्रमुख नस्लें:- जैसलमेरी, बीकानेरी, गोमठ, नाचना, अलवरी तथा कच्छी ।

● घोड़े की नस्ल-

  • देश में राजस्थान का तीसरा स्थान है।
  • राजस्थान में सर्वाधिक घोड़े बीकानेर में मिलते है जबकि सबसे कम डूंगरपुर में मिलते हैं।
  • मालाणी घोड़े की नस्ल बाड़मेर में सिवाणा व गुडा मालानी क्षेत्र में पाई जाती है।
  • मारवाड़ी घोड़े की नस्ल जोधपुर में पाई जाती है।
  • मेवाड़ी घोड़े की नस्ल उदयपुर में पाई जाती है।
  • कठियावाडी घोड़े की नस्ल सिरोही में पाई जाती है।
  • जोहबीड़, बीकानेर में केंद्रीय अश्व अनुसंधान एवं प्रजनन केंद्र स्थापित किया गया है।

● गधे की नस्ल –
देश में राजस्थान का प्रथम स्थान हैं।
– राजस्थान में सबसे अधिक गधों की संख्या बाड़मेर में है व सबसे कम टोंक में है।

● महत्वपूर्ण तथ्य-

  • दुग्ध उत्पादन में राजस्थान का देश में उत्तर प्रदेश के बाद दूसरा स्थान है।
  • ऊन उत्पादन में राजस्थान का देश में प्रथम स्थान है।
    – सर्वाधिक ऊन उत्पादक जिले :-
    1. जोधपुर
    2. बीकानेर
    3. नागौर
  • सबसे कम उन उत्पादके जिला – झालावाड़ ।
  • एशिया की सबसे बड़ी ऊन मंडी – बीकानेर ।
  • सर्वाधिक दूध उत्पादक जिला – जयपुर
  • केंद्रीय पशुधन विकास बोर्ड जोधपुर में स्थित है इसकी स्थापना 1987 में की गई।
  • राजस्थान का पहला गौमूत्र बैंक सांचौर (जालौर) में स्थित है।
  • गौमूत्र से फिनाइल बनाने का राज्य का प्रथम संयंत्र हिंगोनिया जयपुर में स्थित है।
  • राज्य का पहला पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय बीकानेर में स्थित है।
  • पहला निजी क्षेत्र का पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय अपोलो कॉलेज, जयपुर में स्थित है।
  • पहला मत्स्य अभयारण्य:- बड़ी तालाब (उदयपुर)
  • राज्य में सबसे बड़ा मछली उत्पादक बांध :- कानोता (जयपुर)
  • राज्य का एकमात्र पक्षी चिकित्सालय :- जयपुर ।
  • राजस्थान पशुपालन विभाग:- जयपुर । इसकी स्थापना 1957 में हुई।
  • भेड़ एवं प्रशिक्षण संस्थान:- जोधपुर ।
  • भेड़ एवं शिक्षण संस्थान:- जयपुर ।
  • गाय की सर्वश्रेष्ठ नस्ल:- राठी ।
  • भैंस की सर्वश्रेष्ठ नस्ल:- मुर्राह ।
  • बकरी की सर्वश्रेष्ठ नस्ल:- जखराना ।
  • भेड़ की सर्वश्रेष्ठ नस्ल:- चोकला (भारतीय मेरीनो)
  • सर्वाधिक ऊन देने वाली भेड़ की नस्ल :- जैसलमेरी भेड़ ।
  • सर्वाधिक लंबी ऊन देने वाली भेड़ की नस्ल:- मगरा ।
  • ऊँट की सर्वश्रेष्ठ नस्ल:- नाचना ( जैसलमेर)
  • भार ढोने के लिए उपयुक्त ऊँट की नस्ल : – बीकानेरी ऊँट ।
  • राजस्थान में देश के सर्वाधिक ऊंट, बकरियां, गधे पाये जाते हैं।
  • राजस्थान में सर्वाधिक पशुधन बाड़मेर में जबकि न्यूनतम जैसलमेर में हैं।
  • राजस्थान में सर्वाधिक पशु घनत्व राजसमंद हैं।
  • तथा न्यूनतम पशु घनत्व जैसलमेर में हैं।
  • 2 अक्टूबर 2016 से ऊंट प्रजनन प्रोत्साहन योजना शुरू की गई।
  • 2010 में राज्य का एकमात्र पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय बीकानेर में स्थापित किया गया है।
  • स्पर्श योजना दुधारू पशुओं के लिए है।
  • मत्स्य प्रशिक्षण विद्यालय उदयपुर में स्थित है।
  • गोपाल योजना 2 अक्टूबर 1990 से दक्षिण पूर्व के 10 जिलों में चल रही है। यह योजना पशुपालकों के लिए है।
  • कामधेनु योजना गौशाला में उन्नत नस्ल के प्रजनन केंद्र बनाने के लिए 1997 – 98 में में इसे शुरू किया गया ।
  • प्रथम भेड़ एवं बकरी प्रजनन नीति 2013 में जारी की गई।
  • केंद्रीय पशु प्रजनन केंद्र:- सूरतगढ़
  • राष्ट्रीय ऊँट अनुसंधान केंद्र – जोहड़बीड़, बीकानेर
    – स्थापना- 5 जुलाई, 1984
    – राज्य की प्रथम केमल डेयरी।
  • केन्द्रीय भेड़ व ऊन अनुसंधान केंद्र- अविकानगर, टोंक।
    – स्थापना – 16 नवम्बर, 1962
  • बकरी प्रजनन फार्म:- रामसर, अजमेर
  • सूअर प्रजनन फार्म:- अलवर, अजमेर(प्रस्तावित)
  • भेड़ प्रजनन फार्म:- फतेहपुर, सीकर ।
  • भैंस प्रजनन केंद्र:- वल्लभनगर (उदयपुर ) में स्थित है।
  • आलम जी का धौरा बाड़मेर में स्थित है तथा यह घोड़ों का पवित्र स्थान माना गया है।
  • मुख्यमंत्री पशु धन निः शुल्क दवा योजना की शुरुआत 15 अगस्त, 2012 में की गई।

 ● प्रमुख पशु मेले –

1. वीर तेजाजी पशु मेला – परबतसर (नागौर)

  • श्रावण मास की पूर्णिमा से भाद्रपद की आवश्यकता तक।
  • यह आय की दृष्ठि से राजस्थान का सबसे बड़ा मेला है
  • प्रमुख नस्लें – नागौरी, परबतसरी

2. श्री रामदेव पशुमेला:- मानासर ( नागौर)

  •  माघ शुक्ल 1 से माघ शुक्ल 15 तक ।

3. श्री बलदेव पशुमेला – मेड़तासिटी ( नागौर)

  • चेत्र सुदी 1 से चैत्र सुदी 15 तक ।

4. श्री मल्लीनाथ पशुमेला – तिलवाड़ा (बाड़मेर)

  • चैत्र बदी ग्यारस से चैत्र सुदी ग्यारस तक ।
  • यह राजस्थान का सबसे प्राचीन पशुमेला है
  • प्रमुख नस्लें – थारपारकर, कांकरेज, मालाणी

5. गोमती सागर पशुमेला – झालरापाटन (झालावाड़)

  • बैशाख सुदी तेरस से जेठ बदी पंचम तक ।
  • प्रमुख नस्लें – मालपुरी, जमनापरी, सोनाड़ी

6. चंद्रभागा पशुमेला – झालरापाटन (झालावाड़)

  • कार्तिक सुदी ग्यारस से मंगसर बदी पंचम तक ।
  • प्रमुख नस्लें – मालपुरी, जमनापरी, चनोथर

7. गोगामेड़ी पशुमेला – गोगामेड़ी (हनुमानगढ़)

  • श्रावण सुदी पूनम से भादवा सुदी पूनम तक।
  • यह मेला राजस्थान का सबसे लंबा चलने वाला पशुमेला है
  • प्रमुख नस्लें – राठी, मुर्रा, नाली

8. जसवंतपुर पशुमेला – भरतपुर

  • आसोज सुदी पंचम से आसोज सुदी चौदस तक।
  • प्रमुख नस्लें – मेवाती, हरियाणवी, भदावरी, रथ और बारबरी

9. पुष्कर पशुमेला / कार्तिक पशुमेला – पुष्कर (अजमेर)

  • कार्तिक शुक्ल अष्टमी से माघ शीर्ष कृष्णा दूज तक ।
  • यह मेला पशुओं की संख्या की दृष्ठि से राजस्थान का सबसे बड़ा पधुमेला है
  • प्रमुख नस्लें – गीर

10. महाशिवरात्रि पशुमेला – करौली

  • फाल्गुन कृष्ण 14 तक ( शिवरात्रि के पर्व पर) ।

11.बहरोड़ पशु मेला – बहरोड (अलवर) 

  • प्रमुख नस्लें – मुर्राह 

12.बाबा रधुनाथ पुरी पशु मेला – सांचौर (जालौर )

13. सेवडिया पशु मेला – रानीवाडा (जालौर)

 

राजस्थान में वन्य जीव अभ्यारण्य || Wildlife Sanctuary in Rajasthan

राजस्थान के वन्य जीव अभ्यारण्य || Rajasthan Wildlife Sanctuary – भारतीय इतिहास में सर्वप्रथम मौर्य वंश के शासक अशोक ने वन्यजीवों के संरक्षण का प्रावधान किया था। – राजपूताने की पहली रियासतों टोंक रियासत थी। – जिसमें 1901 में शिकार को प्रतिबंधित किया। – स्वतंत्रता से पहले राजपूताने को शिकारियों का स्वर्ग कहा गया है। […]

0 comments

राजस्थान में वन सम्पदा

राजस्थान में वन सम्पदा – “वन वनस्पति” प्रारंभ में यह विशेष राज्य सूची में था परंतु 42 वें संविधान संशोधन 1976 के द्वारा इसे समवर्ती सूची में शामिल किया गया। अर्थात इस विषय पर केंद्र और राज्य दोनों कानून बना सकते हैं परंतु विवाद की स्थिति में केंद्र का कानून मान्य होगा। रुख भायला :- […]

0 comments
राजस्थान में बहुउद्देशीय परियोजनाएँ

राजस्थान में बहुउद्देशीय परियोजनाएँ

राजस्थान में बहुउद्देशीय परियोजनाएँ (Rajasthan ki Bahu Uddesheey Pariuojanayen) राजस्थान की प्रमुख सिंचाई परियोजना PDF | राजस्थान की प्रमुख बहुउद्देशीय परियोजनाओं के नाम | राजस्थान में सिंचाई परियोजना | राजस्थान की प्रमुख नहर एवं नदी घाटी परियोजनाएं | प्रमुख नहर परियोजना Rajasthan ki Bahu Uddesheey Pariuojanayen (राजस्थान में बहुउद्देशीय परियोजनाएँ) : नमस्कार दोस्तों, CrazStudy.in में आपका स्वागत है […]

0 comments

राजस्थान में पशु संपदा / पशुधन

राजस्थान में पशु संपदा – राजस्थान में पशु संपदा | 20वीं पशु गणना 2020 | राजस्थान में पशुओं की प्रमुख नस्लें | राजस्थान के प्रमुख पशु | मेले राजस्थान के प्रमुख मेले trick | पशु गणना 2019 के अनुसार राजस्थान में कुल पशुधन | राजस्थान में सर्वाधिक पशुधन  | 20 वी पशु गणना के अनुसार […]

0 comments

राजस्थान में अपवाह तंत्र 

राजस्थान में अपवाह तंत्र  ● अपवाह तंत्र : नदियां:- बंगाल की खाड़ी की ओर – अरब सागर की ओर(कच्छ का रन खम्भात की खाड़ी) – अंतः प्रवाह – झीलें खारे पानी की :- सर्वा. नागौर मीठे पानी की:- सवी. उदयपुर झीलों में लेक सिटी – बंगाल की खाड़ी की ओर जल ले जाने वाली नदियां:- […]

0 comments

राजस्थान की मिट्टीयों के प्रकार, वैज्ञानिक वर्गीकरण एवं मृदा अपरदन – Soils of Rajasthan

राजस्थान की मिट्टी- – मिट्टी का अध्ययन सामान्यतः पेंडोलॉजी विभाग के अंतर्गत किया जाता है। – भू पृष्ठ का वह ऊपरी भाग जो किसी पौधे को उगने व बढ़ने के लिए जीवाश्म प्रदान करते हैं मिट्टी कहलाती है। – मिट्टी को प्रधान पोषक तत्व नाइट्रोजन, ca, फॉस्फोरस, पोटेशियम है। – राजस्थान में पूर्व से पश्चिम […]

0 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *